मार्शल के सामने DTC बस में महिला पत्रकार से छेड़छाड़, 8 के खिलाफ FIR

महिला पत्रकार का आरोप है कि पांच डीटीसी कर्मचारियों में से एक टिकट चेकर ने टिकट मांगते समय उसे ग़लत तरीके से छुआ. इतना ही नहीं जब महिला ने विरोध किया तो टिकट चेकर ने धमकी भरे अंदाज में कहा- मुझसे मत उलझ.

दिल्ली की डीटीसी बसों में महिलाओं को सुरक्षित रखने के लिए करीब दो साल पहले मार्शल की तैनाती की शुरुआत की गई थी. हालांकि अब ये प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं. बुधवार रात करीब 8 बजे दिल्ली से सटे नोएडा में एक महिला पत्रकार ने दिल्ली जाने के लिए डीटीसी बस पकड़ी. महिला खचाखच भीड़ में खड़ी थी. अगले स्टॉप पर टिकट चेक करने वाले पांच डीटीसी कर्मचारी चढ़े.

महिला पत्रकार का आरोप है कि इन पांच कर्मचारियों में से एक टिकट चेकर ने टिकट मांगते समय उसे ग़लत तरीके से छुआ. इतना ही नहीं जब महिला ने विरोध किया तो टिकट चेकर ने धमकी भरे अंदाज में कहा, "मुझसे मत उलझ."

जिसके बाद महिला पत्रकार ने ड्राइवर और कंडक्टर से बस का दरवाजा नहीं खोलने की अपील की, जिससे कि उसे सीधे पुलिस थाने पहुंचाया जा सके. लेकिन ड्राइवर ने गाड़ी रोक दी और कंडक्टर ने उसे बाहर निकलने दिया. इस दौरान महिला ने मार्शल से भी मदद मांगी लेकिन अत्यधिक भीड़ होने की वजह से जब तक मार्शल वहां पहुंचता आरोपी बाहर निकल चुके थे. जिसके बाद महिला पत्रकार ने कंडक्टर से कहा कि वो पुलिस से इस बात की शिकायत करेंगी, इसके जवाब में कंडक्टर ने कहा कि वो यहीं उतर जाएं और फिर जिससे कहना है कहें.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग