मुलायम के नक्शे कदम पर योगी, सैफई की तर्ज पर गोरखपुर महोत्सव

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के नक्शे कदम पर चल रहे हैं. अब योगी सरकार सैफई की तर्ज पर गोरखपुर में तीन दिवसीय 'गोरखपुर महोत्सव' करने जा रही है. इस भव्य महोत्सव में बॉलीवुड के तमाम दिग्गज सितारे अपनी परफॉर्मेंस से जलवा बिखरते नजर आएंगे.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के नक्शे कदम पर चल रहे हैं. उत्तर प्रदेश में पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी की सरकार 'सैफई महोत्सव' करती रही है. अब सैफई की तर्ज पर योगी सरकार भी गोरखपुर में तीन दिवसीय 'गोरखपुर महोत्सव' करने जा रही है. इस भव्य महोत्सव में बॉलीवुड के तमाम दिग्गज सितारे अपनी परफॉर्मेंस से जलवा बिखेरते नजर आएंगे.

गोरखपुर महोत्सव का राज्यपाल करेंगी आगाज

गोरखपुर में 11 से 13 जनवरी तक चलने वाले महोत्सव को उत्तर प्रदेश के संस्कृति विभाग के द्वारा कराया जा रहा है. महोत्सव का आगाज उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल करेंगी तो समापन समारोह के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ होंगे. गोरखपुर में तीन दिनों तक चलने वाले महोत्‍सव में सुरीले गीत सुनने को मिलेगा तो भोजपुरी लोकगीतों से माटी की सोंधी खुशबू भी बिखरेगी.

सैफई की तरह गोरखपुर महोत्सव

बता दें कि उत्तर प्रदेश की जनता के लिए सरकार की ओर से सरकारी खर्चें पर महोत्सव मनाने का चलन सपा राज के बाद अब बीजेपी राज में भी जारी है. मुलायम और अखिलेश राज में सैफई महोत्सव में आम जनता का पैसा खर्च किया जाता रहा और अब योगी राज में गोरखपुर महोत्सव में यह खर्च बरकरार है. हालांकि दोनों महोत्सव के आयोजन में काफी अंतर है.

योगी के सत्ता में आने के बाद शुरू गोरखपुर महोत्सव

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद और संसदीय क्षेत्र रहे गोरखपुर में महोत्सव की शुरुआत सूबे में बीजेपी सरकार के बनने के बाद से हुई है. गोरखपुर महोत्सव हर साल 11 जनवरी से 13 जनवरी के बीच मनाया जाता है. वहीं, सैफई महोत्सव की शुरुआत 1997 में तत्कालीन मुलायम सिंह यादव की सरकार में हुई थी और हर साल इसे दिसंबर में मनाया जाता है. सैफई महोत्सव के दौरान जहां पूरी सरकार वहीं डेरा डाले रहती थी और ज्यादातर मंत्री मौजूद रहते थे जबकि गोरखपुर में कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल से लेकर मुख्यमंत्री तक की मौजूदगी रहेगी.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग