लड़की ने रख ली 2 करोड़ की अंगूठी, लेकिन ठुकरा दिया प्रपोजल

अजनबी शख्स ने लड़की को दी बेशकीमती अंगूठी. लड़की ने कहा कि पता चल गया था कि उसकी पत्नी भी है.

एक लड़की ने 2 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य की अंगूठी रख ली, लेकिन प्रपोजल ठुकरा दिया. डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, लंदन में रहने वाली सोशलाइट और मॉडल अमंडा क्रोनिन को एक अजनबी ने रिलेशनशिप का प्रस्ताव दिया था. दोनों पहली बार न्यूयॉर्क के होटल में मिले थे.

अजनबी शख्स ने अमंडा को Van Cleef & Arpels ब्रांड की अंगूठी दी थी. अंगूठी की कीमत 2 करोड़ 33 लाख रुपये है. अमंडा इंस्टाग्राम मॉडल के रूप में चर्चित है. उन्होंने कहा कि प्रपोज करने वाला शख्स उत्तरी यूरोप का सबसे पॉवरफुल लोगों में से एक था.

अमंडा ने कहा- मैंने गौर किया कि एक काफी आकर्षक शख्स मुझसे आंखें मिला रहा है. उसने मुझे अपना नाम बताया और नंबर भी दिया. इसके बाद अमंडा ने अगले दिन शख्स को मैसेज भेजा. इसके तुरंत बाद उस व्यक्ति ने अमंडा को कई प्यार भरे मैसेज भेज दिए.

अमंडा ने कहा कि उन्हें पता चल गया था कि शख्स की पत्नी भी है. इसके बाद अमंडा ने जवाब दिया कि वह संभवत: उससे नहीं मिल सकती. इसके बाद उस व्यक्ति ने कहा कि वह अपनी शादी तोड़ने के लिए तैयार है. इसके ठीक बाद शख्स ने अमंडा को प्रपोज कर दिया.

बाद में अमंडा लंदन में उस शख्स से फिर मिली जहां उसने बेशकीमती अंगूठी के साथ प्रपोज किया. उन्होंने कहा कि यह काफी अजीब हो गया था. मैं अंगूठी वापस करना चाहती थी, लेकिन उस व्यक्ति ने कहा कि अगर वह अंगूठी रख लेती है तो उसे खुशी होगी. अमंडा फिलहाल कनाडा के एक शख्स को डेट कर रही है, लेकिन उन्होंने पार्टनर के नाम का खुलासा नहीं किया है.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग