कुत्ते ने न‍िगली हीरे की अंगूठी, एक्सरे करवाया तो सामने आई हकीकत

एक कुत्ते ने अपने माल‍िक की ही हीरे की अंगूठी को न‍िगल ल‍िया. कुत्ते का जब एक्सरे कराया गया तो हकीकत सामने आई. घटना पंजाब के जालंधर ज‍िले की है.

जालंधर में एक कुत्ता चर्चा का विषय बना हुआ है और उसके पीछे कारण है डायमंड इयर रिंग. दरअसल, जालंधर के गुरु अमरदास कॉलोनी में रहने वाले परिवार के स्पिट्ज नस्ल के पालतू कुत्ते ने बेडरूम में रखे डायमंड ईयर रिंग निगल लिए. ईयर रिंग गायब होने पर पहले परिवार ने घर में उसे तलाशा, लेकिन रिंग नहीं मिले और उन्हें लगा की डायमंड इयर रिंग चोरी हो गए हैं.

कमरे में कोई दूसरा व्यक्ति गया नहीं था, इसलिए घर वालों को शक हुआ कि कहीं ईयर रिंग्स कुत्ते ने निगल तो नहीं लिए. शक होने पर परिवार के लोग कुत्ते को लेकर जालंधर के डॉक्टर मुकेश गुप्ता के पास पहुंचे, डॉक्टर ने एक्सरे करवाने को कहा. एक्सरे से पता चला कि ईयर रिंग कुत्ते के पेट और आंत में फंसे हैं.

दोबारा एक्सरे करवाने से पता चला ये

उसके बाद अगले दिन कुत्ते को उल्टी करवाई और जिसके बाद डायमंड का खोल तो निकल आया लेकिन डायमंड बाहर नहीं निकले. दोबारा एक्सरे करवाने से यह पता चला की डायमंड बाहर निकल चुके हैं.  उन्होंने कुत्ते के मालिक को कुत्ते की पॉटी में डायमंड होने की बात कही. डॉक्टर के मुताबिक उसके बाद वह परिवार उनके पास नहीं आया. अब उन्हें भी नहीं मालूम की डायमंड इयर रिंग्स मिले या नहीं.

कुत्ते जो चीज न‍िगल लेते हैं, उसे हजम कर जाते हैं

डॉक्टर की मानें तो कुत्ते ऐसी चीजें निगल सकते हैं और वह उसको हजम भी कर लेते हैं. डॉक्टर ने यह भी बताया कि ऐसे कई केस सामने आए हैं, जिसमें कुत्ता घर में पड़े मोबाइल, ईयरफोन आदि निगल चुके हैं. कुत्ते के मालिक को डायमंड इयर रिंग मिले या नहीं लेकिन मीडिया में बात आने के बाद कुत्ता चर्चा का विषय बना हुआ है.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग