ट्रंप की नरमी, पर ईरान ने दिखाए तेवर, अमेरिकी दूतावास को निशाना बनाकर दागे रॉकेट

ट्रंप के संबोधन के कुछ घंटों बाद ही ईरान ने एक बार फिर कड़े तेवर दिखाए और इराक की राजधानी बगदाद में अमेरिकी दूतावास को निशाना बनाकर दो रॉकेट दागे. ये रॉकेट ग्रीन जोन में गिरे. इस हमले में किसी नुकसान की खबर नहीं है. इराकी सेना ने हमले की पुष्टि की है.

ईरान के शीर्ष सैन्य कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी के मारे जाने के बाद चल रही तनातनी और अमेरिकी सैन्य ठिकाने पर मिसाइल हमले के बाद दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्र को संबोधित किया. हालांकि अपने संबोधन में राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरान पर जवाबी कार्रवाई या हमले जैसी कोई बात नहीं कही.

राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर टिप्पणी जरूर की और नए प्रतिबंध लगाने की भी बात कही. ट्रंप के इस रूख को अपेक्षाकृत नरम ही माना गया. ट्रंप के संबोधन के कुछ घंटों बाद ही ईरान ने एक बार फिर कड़े तेवर दिखाए और इराक की राजधानी बगदाद में अमेरिकी दूतावास को निशाना बनाकर दो रॉकेट्स दागे. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार रॉकेट्स ग्रीन जोन में गिरे. इस हमले में किसी नुकसान की खबर नहीं है.

इराकी सेना ने हमले की पुष्टि की है. गौरतलब है कि ईरान ने दो दिन पहले भी अमेरीकी दूतावास को निशाना बनाकर मिसाइल हमला किया था. तब भी मिसाइलें ग्रीन जोन में अमेरिकी दूतावास से कुछ दूर गिरी थीं. इस हमले में भी कोई नुकसान नहीं हुआ था. एक दिन पहले भी ईरान ने अमेरिकी सैन्य ठिकाने को निशाना बनाकर दर्जन भर मिसाइलें दागी थीं.

ईरान ने इस हमले में 80 अमेरिकी सैनिकों के मारे जाने का दावा किया था, जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति ने सिरे से खारिज कर दिया. उन्होंने हमले की पुष्टि की, लेकिन साथ ही दावा किया कि इसमें किसी अमेरिकी सैनिक या इराकी को नुकसान नहीं हुआ है. ईरान के नेता अयातुल्लाह खुमैनी ने हमले को अमेरिका के गाल पर करारा तमाचा बताया था.

क्या कहा अमेरिकी राष्ट्रपति ने

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि हम बल प्रयोग करना नहीं चाहते. उन्होंने नरमी दिखाते हुए कहा कि ईरान एक बेहतर देश हो सकता है, उसे आतंक का समर्थन करना बंद करना होगा. ट्रंप ने ईरान के साथ बातचीत और समझौते का रास्ता खुला रखने का संकेत देते हुए कहा कि ऐसा समझौता करने की कोशिश की जाएगी, जिससे दुनिया शांति की ओर बढ़ सके.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग