सरजिल के खिलाफ असम सरकार दर्ज कराएगी मुकदमा

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नेशनल रजिस्‍टर ऑफ सिटिजन(NRC) के विरोध में शाहीन बाग

 

नई दिल्ली

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नेशनल रजिस्‍टर ऑफ सिटिजन(NRC) के विरोध में शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन के मुख्‍य आयोजन सरजिल के खिलाफ असम सरकार केस दर्ज कराएगी। असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने बताया कि शाहीन बाग में सरजिल ने असम को भारत से तोड़ने के बात कही थी। इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। राज्य सरकार ने वीडियो का संज्ञान लिया है और उनके खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा।

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा का कहना है कि शाहीन बाग में देश को टुकड़े-टुकड़े करने की साजिश हो रही है। इस दौरान उन्होंने एक वीडियो भी दिखाया है। यह वहीं असम वाला वीडियो था, जिसे लेकर काफी हंगामा मचा है। उन्होंने बताया कि इस वीडियो में भारत के खिलाफ भाषण दिया जा रहा है। असम को भारत से अलग करने का आह्वान किया जा रहा है।

दिल्‍ली में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर संबित पात्रा ने कहा कि शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन को कांग्रेस और आम आदमी पार्टी समर्थन दे रही हैं। यहां संबित पात्रा ने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के ट्वीट का भी जिक्र किया, जिसमें उन्‍होंने शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों के साथ होने के बारे में कहा हैं। संबित पात्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस नेता राहुल गांधी को शाहीन बाग को लेकर अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग