कंगना को इस रूप में देख कर रह जाएंगे आप दंग

कंगना रनोट को आप इस रूप में देख कर दंग रह जाएंगे। क्वीन, झांसी की रानी के बाद अब वह

 

 

मुंबई

कंगना रनोट को आप इस रूप में देख कर दंग रह जाएंगे। क्वीन, झांसी की रानी के बाद अब वह एयरफोर्स पायलट का किरदार निभाती नजर आएंगी। सर्वेश मेवाड़ा के निर्देशन में बनने वाली इस फिल्म का टाइटल 'तेजस' रखा गया है। एक्ट्रेस के मुताबिक दो हफ्ते पहले ही उन्होंने इस फिल्म को साइन किया है और इसकी शूटिंग जुलाई से शुरू होगी।

कंगना ने बताया, 'मैं हमेशा से फिल्म में एक सैनिक का किरदार निभाना चाहती थी और बचपन से ही मुझे सशस्त्र बलों के प्रति आकर्षण रहा है। मैंने कभी भी जवानों के प्रति कभी अपनी भावनाओं को नहीं छुपाया और इस बारे में खुलकर बात की है कि मैं उनकी बहादुरी को कितनी दृढ़ता से महसूस करती हूं। वे हमारे देश और उसके नागरिकों को सुरक्षित रखते हैं। इसलिए यह फिल्म करते हुए मुझे बेहद खुशी हो रही है।'

फिल्म की तैयारियों को लेकर उन्होंने कहा, 'फिल्म की शूटिंग शुरू होने से पहले मुझे कठिन प्रशिक्षण से गुजरना होगा। इसके लिए निर्देशक ने पेशेवर ट्रेनर्स की मदद लेने का फैसला किया है। ताकि मैं असली पायलट की तरह महसूस कर सकूं।' 

कंगना ने कहा, 'मैं रोनी सर और सर्वेश की शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने इस असाधारण पटकथा के लिए मुझे चुना, जो हमारे सैनिकों की वीरता का जश्न मनाती है।' इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 'फिल्म में यूनिफॉर्म पहनने के लिए मैं मरी जा रही हूं। वर्दी में होना मेरे जीवन का सबसे बड़े आकर्षणों में से एक होगा।'

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस