छवियों और बातों में समाई है यहां गंगा की एक अंतहीन यात्रा

लेखक चंचल कुमार घोष ने भारत में अपनी यात्रा के दौरान गंगा नदी से जुड़ी जो भी जानकारी हासिल की उसे अपनी किताब 'गंगा- एन एंडलेस जर्नी' के माध्यम से लोगों तक पहुंचाया है.

गंगा भारत की आत्मा है. हिमालय के गौमुख से निकलकर गंगासागर के संगम पर समुद्र में मिलने वाली 2,525 किलोमीटर लंबी नदी भारतीय सभ्यता का उद्गम स्थल है. अनगिनत शहर, गांव और मंदिर इसके किनारों पर बसे हुए हैं. गंगा अब एक तीर्थस्थल में परिवर्तित हो चुकी है.

लेखक चंचल कुमार घोष ने भारत में अपनी यात्रा के दौरान गंगा नदी से जुड़ी जो भी जानकारी हासिल की उसे अपनी किताब  'गंगा- एन एंडलेस जर्नी' के माध्यम से लोगों तक पहुंचाया है. उनके इस अनुभव ने उन्हें भारतीय संस्कृति के आध्यात्मिक अस्तित्व और युगों से संपन्न गंगा के किनारों को समझने का मौका दिया है.

इस यात्रा के दौरान लेखक की मुलाकात जिन लोगों से हुई और उन्होंने जो किस्से यहां लोगों से सुने, उसने कहानी को अधिक समृद्ध बनाया है. आगरा के बद्रीनाथ जी जो सातवीं बार सागर द्वीप पर आए थे और गंगोत्री के एक गांव से ताल्लुक रखने वाले वर्षराम सेमवाल ऐसे ही कुछ लोगों में शुमार हैं. इन लोगों का कहना है कि गंगोत्री संभवत: पृथ्वी पर एकमात्र तीर्थस्थान है जहां कोई ईश्वर के विशाल स्वरूप को देख सकता है.

लेखक की तस्वीरों ने भारत की संस्कृति और विरासत को स्पष्ट रूप से अपने कैमरे में कैद किया. यह पुस्तक गंगा की आंतरिक भावना, निरंतरता की भावना, प्रेम और श्रद्धा की भावना का प्रमाण है. इस दृष्टिहीन पुस्तक में मौजूद 190 से अधिक तस्वीरें गंगा के प्रति लेखक के गहरे प्रेम को उजागर करती हैं.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस