सांध्यकालीन दैनिक गांडीव देगा इन तीन लोगों को मजीठिया का लाभ

वाराणसी का चर्चित सांध्यकालीन दैनिक गांडीव अब इन तीन लोगों को मजीठिया वेजबोर्ड के नियमों के अनुसार पेमेंट करेंगा।

 

वाराणसी।

वाराणसी का चर्चित सांध्यकालीन दैनिक गांडीव अब इन तीन लोगों को मजीठिया वेजबोर्ड के नियमों के अनुसार पेमेंट करेंगा।

वाराणसी श्रम न्यायालय ने विकास पाठक, आत्रि भारद्वाज तथा जय नारायण मिश्रा के पक्ष में फैसला देते हुए कहा कि इन्हें गांडीव समाचार को उनकी बकाया धनराशि तीन माह के अंदर देने होंगे। सूत्रों ने बताया कि वाराणसी श्रम न्यायालय में तीनों पत्रकारों ने मुकदमा दाखिल किया था जिसका फैसला इन तीनों पत्रकारों के हक में आया है। पत्रकारों की तरफ से जिरह अधिवक्ता अजय मुखर्जी और आशीष टंडन ने किया। विकास पाठक वर्ष 1987 से सहायक सम्पादक के पद से गांडीव में कार्य शुरु किया था। इनके द्वारा किये गये कार्य दो माह का वेतन जुलाई व अगस्त 2011,अंतरिम का बकाया, तीन माह का अर्जित अवकाश वर्ष 2009-10, बोनस तथा वेतन में की गई कटौती का नगदी करण के भुगतान का मुकदमा किया था। इसमें श्रम न्यायालय ने उक्त सभी मद में कुल धनराशि रुपया 202738 को तीन माह के भीतर देने का फैसला दिया है।

इसी अखबार में वर्ष 1977 से उप सम्पादक पद पर कार्य करने वाले आत्रि भारद्वाज को सेवायोजक द्वारा वर्ष 2006 से 2009 तक बेतन व मह्गाई भत्ता आदि कम देने के मुकदमे में श्रम न्यायालय ने महंगाई भत्ता सहित अन्य मद मे कुल रुपया 47100 तीन माह के भीतर देने का फैसला दिया है।

इसके अलावा इसी अखबार के जय नारायण मिश्रा ने वर्ष 1981 से उप सम्पादक के पद पर कार्य करते रहे सेवा निवृत्ति के बाद वर्ष 2006 से 2010 तक महंगाई भत्ता व वेतन व अर्जित अवकाश मद में कम दिया था। दाखिल मुकदमे मे श्रम न्यायालय ने अपने फैसले मे श्रमिक को कुल रुपया 67800 तीन माह में देने का आदेश दिया है।

 

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग