सातवीं पुण्यतिथि पर याद किए गए समाजसेवी रमाकांत राय

समाजसेवी रमाकांत राय की 7वीं पुण्यतिथि सोमवार को उनके गृहग्राम अवथहीं में मनाई गई। इस दौरान एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।

समाजसेवी रमाकांत राय की 7वीं पुण्यतिथि सोमवार को उनके गृहग्राम अवथहीं में मनाई गई। इस दौरान एक श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। श्रद्धांजलि सभा में सैकड़ों लोग पहुंचे। गाजीपुर से लोकसभा सदस्य माननीय अफजाल अंसारी ने दिल्ली से भेजे अपने संदेश में कहा कि रमाकांत राय को पीढ़ियां हमेशा याद रखेंगीं। वे त्याग की मूर्ति थे। हमेशा सदभाव की बात करते थे। मध्यस्थता से हर समस्या का समाधान उनके पास था। उन्होंने कहा कि चूंकि इस समय लोकसभा का बजट सत्र चल रहा है इसलिए मैं अवथहीं नहीं पहुंच पा रहा हूं पर उनके बताए रास्ते और गरीबों के साथ हमेशा खड़े रखने की सीख मुझे हमेशा प्रेरित करती रहती है।  

 
इस अवसर पर रमाकांत राय के छोटे पुत्र बृज राज राय (आईएएस), विशेष सचिव, बिहार सरकार ने अपने पिता को नमन करते हुए कहा कि पिता जी हमलोगों के लिए वह वटवृक्ष थे जो हमेशा ही लोगों को छाया देने का काम करता है। वे सभी से कहते थे कि बच्चों में संस्कार की बेल को बढ़ाओ, बच्चे अपने आप एक नायाब हीरे की तरह चमक उठेंगे। उन्होंने महाभारत, ऋग्वेद और यजुर्वेद के प्रसंगों का जिक्र करते हुए कहा कि वैदिक रीति में भी पिता के महत्व का वर्णन है। समाज में भारतीय संस्कृति की मजबूती के लिए भारतीय संस्कारों को अपनाना जरूरी है। इससे समरूपता, भाईचारा और बन्धुत्व बढ़ता है। उन्होंने कहा कि माता पिता से बढ़कर कोई नहीं होता है। माता पिता की स्मृतियों को संजोकर रखना चाहिए।मौके पर लोगों ने बाबूजी के संघर्षशील व्यक्तित्व की चर्चा की। लोगों ने बताया कि रमाकांत राय एक व्यक्ति ही नहीं एक विचार भी थे। फौलादी विचारधारा के धनी थे। हर समय लोगों को एक दूसरे के साथ मिलकर रहने, लोगों को न्याय दिलाने के लिए संघर्ष करते रहे। अपने कर्मों की बदौलत ही समाज में वे लोकप्रिय थे। समाज के हर तबके के साथ उनका जुड़ाव था।कार्यक्रम का समापन उनके बड़े बेटे शिवकुमार राय ने धन्यवाद ज्ञापन कर किया। श्रद्धांजलि सभा में दिवाकर राय, दिवाकर मिश्र, अखिलेश राय, हीरा यादव, मुन्ना यादव, ग्राम प्रधान प्रतिनिधि, मुहम्मदाबाद नगरपालिका के अध्यक्ष शमीम अंसारी, पूर्व ब्लाक प्रमुख बीरेंद्र यादव प्रेमशंकर राय श्रीराम राय अखिल राय रामनाथ ठाकुर अखिलेश राय दयाशंकर मिश्र आदि मौजूद थे।अध्यक्षता पूर्व ब्लॉक प्रमुख शारदानंद राय उर्फ लुटूर राय और संचालन प्रेमशंकर राय ने किया।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग