बांग्लादेश बना अंडर-19 वर्ल्ड कप चैंपियन, भारत को 3 विकेट से हराया

इससे पहले खिताबी मुकाबले में बेहद निराशाजनक प्रदर्शन किया। और 47.2 ओवर में 177 रन बनाकर आउट हो गई।

 

नई दिल्ली। भारत को फाइनल में 3 विकेट से हराकर बांग्लादेश ने सभी को चौंकते हुए अंडर-19 वर्ल्ड  कप का खिताब अपने नाम कर लिया। भारत से मिले आसान 178 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए बांग्लादेशी ओपनरों ने परजेव (47) और तंजिद (17) ने पहले विकेट के लिए 50 रन जोड़कर ठोस शुरुआत की। उसके बाद रवि विश्नोई का जादू चला, तो बांग्लादेश का स्कोर एक समय 5 विकेट पर 85 रन हो गया। लेकिन एक छोर पर परवेज की बल्लेबाजी और बांग्लादेशी कप्तान अकबर अली ने  43 रन की नाबाद पारी से जीत दिला दी। एक समय बांग्लादेश को 54 गेंदों पर जीत के लिए 15 रन बनाने थे, तो बारिश आ गई। करीब आधा घंटा बाद खेल शुरू हुआ, तो डकवर्थ लुईस नियम से बांग्लादेश को खिताब जीतने के लिए 28 गेंदों पर 6 रन बनाए थे, जिसे उसने बहुत ही आसानी 42.1 ओवर में हासिल कर लिया। भारत के लिए लेग स्पिनर रवि विश्नोई ने 4 विकेट चटकाए। 

इससे पहले खिताबी मुकाबले में बेहद निराशाजनक प्रदर्शन किया। और 47.2 ओवर में 177 रन बनाकर आउट हो गई।

बांग्‍लादेशी गेंदबाजों के आगे यशस्‍वी जायसवाल ही संघर्ष कर सके। भारतीय बल्‍लेबाजों ने फाइनल में अपने प्रदर्शन से बुरी तरह शर्मसार किया। पहली बार फाइनल में स्‍थान बनाने वाले बांग्‍लादेश के आमंत्रण पर पहले बैटिंग करने उतरी प्र‍ियम गर्ग की टीम का एक समय स्‍कोर दो विकेट खोकर 103 रन था लेकिन इसके बाद नाटकीय पतन का सिलसिला शुरू हो गया। यशस्‍वी ने 121 गेंदों पर आठ चौकों और एक छक्‍के की मदद से सर्वाधिक 88 रन बनाए।

 

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग