पुलवामा को लेकर राहुल गांधी पर भड़के संबित-कहा, आपकी आत्मा भी भ्रष्ट

14 फरवरी, 2019 यानी पुलवामा हमले की पहली बरसी। इस हमले में करीब 40 जवान शहीद हो गए थे। इसे लेकर भाजपा और कांग्रेस में वाकयुद्ध चल रहा है।

 

नई दिल्ली।

14 फरवरी, 2019 यानी पुलवामा हमले की पहली बरसी। इस हमले में करीब 40 जवान शहीद हो गए थे। इसे लेकर भाजपा और कांग्रेस में वाकयुद्ध चल रहा है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शहीदों को श्रद्धांजलि तो दी, साथ ही कई तरह के सवाल भी खड़े कर दिए। उन्होंने मोदी सरकार पर तीखे हमले करते हुए कहा कि सरकार बताएं कि अभी तक हमले की जांच का क्या हुआ? आखिर इससे किसे फायदा हुआ?

राहुल गांधी ने ट्वीट किया और तीन सवाल दागे। ‘आज जब हम पुलवामा के चालीस शहीदों को याद कर रहे हैं, तब हमें पूछना चाहिए...

1.    पुलवामा आतंकी हमले से किसे सबसे ज्यादा फायदा हुआ?

2.    पुलवामा आतंकी हमले को लेकर हुई जांच से क्या निकला?

3.    सुरक्षा में चूक के लिए मोदी सरकार में किसकी जवाबदेही तय हुई?

 

इस पर भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने राहुल गांधी पर पलटवार किया। उन्होंने कहा कि पुलवामा नृशंस हमला था और यह एक नृशंस बयान है कि किसको फायदा हुआ। क्या गांधी परिवार कभी फायदे से आगे बढ़कर सोच सकता है। इनकी आत्माएं भी भ्रष्ट हो चुकी हैं।

आपको बता दें कि राहुल गांधी से पहले सीपीआई (एम) नेता मोहम्मद सलीम ने भी पुलवामा के आतंकी हमले को लेकर सरकार पर निशाना साधा था। मोहम्मद सलीम ने ट्विटर पर लिखा, ‘हमें जवानों के लिए मेमोरियल नहीं चाहिए। बल्कि हम ये जानना चाहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर से 80 किलो RDX कैसे भारत में आ गया, वो भी उस जगह जहां पर सेना की इतनी बड़ी तादाद है

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग