निर्भया मामले में आदेश लिखवाते समय जज साहिबा बेहोश, मचा सुप्रीम कोर्ट में हड़कंप

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में उस समय हड़कंप मच गया जब निर्भया के दोषियों को एक साथ फांसी देने की इजाजत मांगने वाली याचिका पर सुनवाई करते समय

 

नई दिल्ली।

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में उस समय हड़कंप मच गया जब निर्भया के दोषियों को एक साथ फांसी देने की इजाजत मांगने वाली याचिका पर सुनवाई करते समय जस्टिस आर. भानुमति  कोर्ट में ही बेहोश हो गईं।  

हालांकि सुनवाई से उसका कोई संबंध नहीं था बल्कि जस्टिस भानुमति की अचानक तबीयत खराब हो गई और बाद में ऑर्डर लिखते समय वह बेहोश हो गईं। फिर कुछ मिनट बाद जब उन्हें होश आया तो उन्हें चैंबर में ले जाया गया। वहां तत्काल डॉक्टरों को बुलाया गया। बताया जा रहा है कि जस्टिस भानुमति को पहले से ही तेज बुखार था, लेकिन दवा लेकर वह कोर्ट मे बैठी थीं। फिर तबीयत ज्यादा खराब होने पर सुनवाई के दौरान ही बेहोश हो गईं। 

सूत्रों ने बताया कि जस्टिस आर. भानुमति ऑर्डर लिखवा रहीं थीं। सुनवाई स्थगित की जा रही थी। उन्होंने बोला कि नई तारीख लगा देते हैं ...और ऑर्डर लिखवाते-लिखवाते उन्होंने एक-दो लाइन ही बोली। उसके बाद उन्हें तबीयत ठीक नहीं लगी तो बगल वाले जज से उन्होंने कहा कि आदेश के बारे में वह बता दें। इसके बाद न्यायाधीश अशोक भूषण आदेश के बारे में बताने लगे। इसी बीच न्यायाधीश आर. भानुमति तबीयत खराब होने के चलते सीट पर ही बेहोश हो गईं। इसके बाद वहां पर हड़कंप मच गया।

  

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग