पाकिस्तान में सोशल मीडिया के लिए नए नियामक, संस्थाओं ने जताया एतराज  

इस्लामाबाद। मीडिया अधिकारों की बात करने वाली एक संस्था ने पाकिस्तान में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के नये नियामक उपायों की आलोचना की है।

 

 

 

इस्लामाबाद। मीडिया अधिकारों की बात करने वाली एक संस्था ने पाकिस्तान में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के नये नियामक उपायों की आलोचना की है। जहां 2018 में प्रधानमंत्री इमरान खान के निर्वाचन के बाद मीडिया पर रोकटोक और दबाव बढ़ गये हैं।

एएफपी को कानून के मसौदे की प्रति मिली है जिसके अनुसार इस सप्ताह की शुरूआत में घोषित नये उपाय पाकिस्तानी अधिकारियों को सामग्री हटाने के अधिकार दे देंगे। कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स के एशिया कार्यक्रम समन्वयक स्टीवन बटलर ने कहा, ‘‘पाकिस्तान के संघीय मंत्रिमंडल द्वारा मंजूर ये कड़े लेकिन अस्पष्ट नियम पत्रकारों की खबरों की रिपोर्टिंग तथा उनके सूत्रों से संवाद की क्षमता को प्रभावित करते हैं।’’ हालांकि पाकिस्तान के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी ने नये उपायों का बचाव करते हुए कहा, ‘‘हमारे पास अब सोशल मीडिया पर नुकसानदेह सामग्री को नियंत्रित करने के नियम हैं, लेकिन इनका राजनीतिक सामग्री से कोई लेना देना नहीं है।’

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग