यूपी बजट: शिक्षा-स्वास्थ्य को छोड़कर अयोध्या काशी पर नजर

लखनऊ। योगी सरकार की नीति और नियत में चुनाव 2022 की तैयारी दिखने लगी है। सरकार अभी भी हिंदुत्व के रास्ते पर ही चलेगी। आज के बजट से इतना तो तय हो गया है

 

लखनऊ। योगी सरकार की नीति और नियत में चुनाव 2022 की तैयारी दिखने लगी है। सरकार अभी भी हिंदुत्व के रास्ते पर ही चलेगी। आज के बजट से इतना तो तय हो गया है कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार 2022 के विधानसभा चुनाव में हिंदुत्व को लेकर ही मैदान में उतरेगी। इसीलिए शिक्षा स्वास्थ्य को गंभीरता से लेकर उसने अयोध्या और काशी को चमकाने का बीड़ा उठाया है।

 

 

योगी सरकार (Yogi Government) ने अपना चौथे बजट में धार्मिक पर्यटन (Religious Tourism) को लेकर विशेष ध्यान दिया है। इसके तहत सरकार ने काशी (Kashi), अयोध्या (Ayodhya) और कैलाश मानसरोवर यात्रा (Kailash Mansarover Yatra) के लिए करोड़ों रुपए बजट में आवंटित किए हैं।

योगी सरकार ने एक तरफ जहां अयोध्या में उच्च स्तरीय पर्यटक अवस्थापना सुविधाओं के विकास के लिए ने 85 करोड़ की व्यवस्था की है और तुलसी स्मारक भवन के सुदृढ़ीकरण के लिए 10 करोड़ का प्रावधान किया गया है। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सांस्कृतिक केंद्र की स्थापना के लिए 180 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है। यही नहीं उत्तर प्रदेश पर्यटन नीति के अंतर्गत पर्यटन इकाइयों को प्रोत्साहन के लिए 50 करोड़ की व्यवस्था भी की गई है।


सरकार ने काशी विश्वनाथ मंदिर विस्तारीकरण और सौंदर्यीकरण योजना के लिए 200 करोड़ रुपये की व्यवस्था की है। काशी हिंदू विश्वविद्यालय के अंतर्गत वैदिक विज्ञान केंद्र के निर्माण के लिए 18 करोड़ की व्यवस्था की गई है।
बता दें सरकार ने इस बार यूपी का 5 लाख 12 हजार 860.72 ( 5,12860.72) करोड़ का बजट किया पेश किया है। पिछले वित्तीय वर्ष 2019-20 के मुकाबले 33 हजार 159 करोड़ रुपये ज्यादा का बजट पेश हुआ। वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने पिछले साल के मुकाबले इस बार साढ़े 6 फीसदी ज्यादा का बजट पेश किया। वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए योगी सरकार ने 10 हजार 967 करोड़ 87 लाख की नई विकास योजनाओं के वित्त पोषण के प्रस्ताव को बजट में शामिल किया है।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग