पीएम मोदी के इस ट्वीट पर पूरे देश में हो रही है थू-थू

कभी कभी गणित का सामान्य खेल भी कुछ लोगों का खेल बिगाड़ जाता है। इस समय प्रधानमंत्री मोदी का एक ट्वीट न केवल चर्चा का विषय बना हुआ है बल्कि

 

राजेश राय, नई दिल्ली

कभी कभी गणित का सामान्य खेल भी कुछ लोगों का खेल बिगाड़ जाता है। इस समय प्रधानमंत्री मोदी का एक ट्वीट न केवल चर्चा का विषय बना हुआ है बल्कि उसे लेकर लोग काफी टिप्पणी भी कर रहे हैं। हालांकि इस समय बीजेपी का भी गुणा गणित कही फिट नहीं बैठ रहा है। न वह झारखंड में ही ठीक बैठा न ही दिल्ली में पर अब इस ट्वीट ने मोदी और खास तौर पर पीएमओ का छिछालेदर कर रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन पहले अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दौरे पर थे। उन्होंने वहां एक अस्पताल को लोकार्पित किया। उसके बाद मोदी के द्वारा या कहिए पीएमओ के द्वारा ट्वीट किया गया कि भाईयों यह अस्पताल की नींव मैंने ही 2016 के आखिर में रखी थी। आज इसे मैं लोगों को समर्पित कर रहा हूं। 21 महीने में इसे समर्पित करके मुझे खुशी हो रही है। वाराणसी खास तौर से पूर्वांचल के लोगों को यह 430 बेडों का अस्पताल लाभ पहुंचाएगा।

इसी की किरकिरी हो रही है। लोग कह रहे हैं कि मोदी जी या फिर पीएमओ अपनी ही गणना में फेल हो गया है। यदि 2016 में इसकी नींव रखी गई तो 2020 के फरवरी में लोकार्पण कहां से 21 महीने में हो गया। कुछ 37 महीने के काम को 21 महीने का बताया जा रहा है। कुछ लोगों ने तो काफी तल्ख टिप्पणी की है। पर जो भी हो। यदि पीएमओ से यह गलती हुई है तो इसे सुधारा जाना चाहिए। खबर लिखे जाने तक पीएमओ के ट्वीटर हैंडल पर यह ज्यों का त्यों पड़ा है।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग