पाकिस्तान में एक और पत्रकार की हत्या, नहर से शव बरामद

पाकिस्तान में एक और पत्रकार की हत्या कर दी गई है। पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिम सिंध प्रांत में लापता होने के कुछ घंटे बाद ही उनका शव एक नहर में पाया गया।

 

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में एक और पत्रकार की हत्या कर दी गई है। पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिम सिंध प्रांत में लापता होने के कुछ घंटे बाद ही उनका शव एक नहर में पाया गया।

अजीज मेमन (56) एक स्थानीय टीवी Kawish Television Network (KTN)  के लिए बतौर रिपोर्टर और कैमरामैन काम करते थे। वह रविवार को काम पर निकले थे, लेकिन फिर लापता हो गए। अजीज के परिवार ने कहा कि उनकी निर्मम हत्या की गई, लेकिन यह पता नहीं कि इसके पीछे किसका हाथ है। पुलिस प्रमुख मुहम्मद फारुख ने बताया कि मेहराबपुर गांव के समीप एक नहर से शव बरामद किया गया। अभी तक अजीज के अपहरण और हत्या की किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है।

अजीज के भाई अब्दुल हाफिज ने कहा, 'उन्होंने पिछले साल यह खबर दिखाई दी थी कि इलाके के एक नेता ने एक विपक्षी रैली में स्थानीय लोगों को शामिल होने के लिए पैसे दिए थे। इस खबर के बाद मेरे भाई को जान से मारने की धमकी मिली थी।'

अंतरराष्ट्रीय फेडरेशन आफ जर्नलिज्म और पाकिस्तान में पत्रकारों की संस्था ने इस घटना की कड़ी निंदा की है और इस मामले में शामिल लोगों को तुरंत गिरफ्तार करने और कार्रवाई की मांग की है।

 

Aziz Memon, a journalist with Kawish Television Network (KTN) TV and Sindhi-language Daily Kawish was found dead in an irrigation waterway in Mehrabpur in Southern Sindh on February 16. The International Federation of Journalists (IFJ) and its affiliate the Pakistan Federal Union of Journalists (PFUJ) condemn the brutal murder. PFUJ has called for national protests to demand urgent action on the killing.
 
The body of 56-year-old Memon was recovered from a canal near Gaddo Bridge in the Naushahro Feroze district near where he lived, after locals reported a body floating in the water. Memon, who was also president of the Mehrabpur Press Club, was found with wire tied around his neck. His body was taken to the Sindh-based Taluka Hospital for medical and legal formalities. Initial investigations indicate he died from strangulation.
 
Police told Dawn newspaper that Memon received many threats during his 30-year career. Last year he received a threat from a Member of National Assembly (NMA) in Pakistan. The PFUJ also said Memon had released a video message and announcing he received serious threats for breaking a story against the ruling party in Sindh province and that a senior district police officer had threatened him of dire consequences. Despite applications to the district and provincial authorities, the PFUJ said his case was not given “serious attention”.
 
The PFUJ “strongly condemned the concerned police officers of the District and Province and held them responsible for this murder” despite repeated applications for support and a clear pattern of threats on his life.
 
Aziz Memon’s brother, Hafiz, said his brother’s body was found dead in an irrigation outlet after he went out to cover a story in a nearby village on the morning of February 15 with his cameraman, Owais Qureshi. According to police, the cameraman has been arrested and taken into custody for interrogation.
 
The IFJ 2019 Killed Report, Roll Call of Deaths and Tragedies found Pakistan was the second deadliest country for journalists in the Asia-Pacific region, with five journalists killed in the year. Memon is the first journalist killed in Pakistan in 2020 and the first for the Asia-Pacific region.
 
The PFUJ said, “PFUJ strongly condemns the murder of yet another journalist Aziz Memon and demands the Sindh Government to arrest the killer and his facilitators.”
 
IFJ General Secretary, Anthony Bellanger, said: “The IFJ mourns the shocking death of journalist Aziz Memon. Despite every effort to alert authorities to his plight, his calls for help from police were not followed through. The IFJ condemns this senseless murder and urges authorities to conduct an independent investigation into Memon’s death and the failures of Sindh’s police to protect him.”

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग