पंजाब के पत्रकार ने दिल्ली में ट्रेन के आगे कूदकर दी जान

नई दिल्ली। चंड़ीगढ़ के स्थानीय चैनल के एक पत्रकार अमन बराड़ ने दिल्ली के सराय रोहिल्ला में मंगलवार तड़के ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी।

 

नई दिल्ली। चंड़ीगढ़ के स्थानीय चैनल के एक पत्रकार अमन बराड़ ने दिल्ली के सराय रोहिल्ला में मंगलवार तड़के ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी। अमन मूल रूप से पंजाब के मुक्तसर के रहने वाले थे।

पुलिस के अनुसार अमन का शव सराय रोहिल्ला और किशनगंज रेलवे स्टेशनों के बीच पटरियों पर मिला है।
बताया जा रहा है कि अमन पिछले कुछ वक्त से पीठ से जुड़ी बीमारी की वजह से परेशान थे और तनाव में चल रहे थे। इसी वजह से उन्होंने ऐसा कदम उठाया। अमन ने दिल्ली के प्रतिष्ठित पत्रकारिता संस्थान आईआईएमसी से पढ़ाई की थी और चंडीगढ़ में एक मीडिया संस्थान के साथ रिपोर्टर के तौर पर जुड़े हुए थे।

 

अमन के निधन पर उन्हें जानने वाले लोगों में शोक की लहर है। पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर बादल ने लिखा, 'एक युवा और ऊर्जावान पत्रकार के निधन पर गहरे सदमे में हूं। मेरी संवेदनाएं मृतक के परिवार के साथ है। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।'

एक अधिकारी ने बताया कि सिंह दो दिन पहले ही इलाज के लिए दिल्ली आए थे।

पुलिस को सुबह चार बजकर 37 मिनट पर सूचना मिली कि किशनगंज के खंभा संख्या 376-378 के निकट ट्रेन की पटरी पर एक व्यक्ति का शव पड़ा हुआ है।

शव को पोस्टमॉर्टम के लिए सब्जी मंडी शवगृह भेज दिया गया है। सिंह रीढ़ की हड्डी की टीबी से पीड़ित थे। उनका दिल्ली के सरिता विहार स्थित अपोलो अस्पताल में इलाज चल रहा था।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग