पीएम मोदी को भी आज खरीदनी पड़ी 20 रुपये कप चाय

नई दिल्ली। आज से करीब 55 वर्ष पहले जब गुजरात के उस स्टेशन पर नरेंद्र दामोदर दास मोदी चाय बेचते होंगे तो शायद ही सोचे होंगे कि जब वे पीएम की कुर्सी पर

 

 

नई दिल्ली। आज से करीब 55 वर्ष पहले जब गुजरात के उस स्टेशन पर नरेंद्र दामोदर दास मोदी चाय बेचते होंगे तो शायद ही सोचे होंगे कि जब वे पीएम की कुर्सी पर बैठेंगे तो उन्हें 20 रुपये कप चाय खरीदनी पड़ेगी। उस समय शायद पूरी दुकान की कीमत भी 20 रुपये नहीं रही होगी। अब उतने की तो एक कप चाय मिलती है। मोदी बुधवार को अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की ओर से आयोजित ‘हुनर हाट’ (Hunar Haat) में अचानक पहुंचे।  वहां लिट्टी-चोखा खाया एवं कुल्हड़ की चाय पी। जिसका भुगतान उन्होंने खुद किया।

मोदी दिन में करीब डेढ़ बजे इंडिया गेट (India Gate) के निकट राजपथ (rajpath) पर लगे ‘हुनर हाट’ में पहुंचे और वहां लगभग 50 मिनट तक रहे। मोदी ने विभिन्न स्टॉल पर जाकर उत्पादों को देखा और उनके बारे में जानकारी ली।

 


सूत्रों का कहना है कि प्रधानमंत्री ने ‘हुनर हाट’ में मौजूद एक स्टॉल पर रुककर लिट्टी-चोखा खाया जिसके लिए उन्होंने 120 रुपये का भुगतान किया। इसके साथ ही उन्होंने दो कुल्हड़ चाय भी ली जिसमें से एक उन्होंने स्वयं ली और दूसरी चाय नकवी को दी। मोदी ने चाय के लिए भी 40 रुपये का भुगतान किया। पूछा कैसे कप चाय है भाई। आवाज आई आपही की दुकान है साहब। 20 रुपये प्रति कप।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग