Ayodhya temple:  राम मंदिर निर्माण के लिए सदस्यों को दी गई जिम्मेदारी

नई दिल्ली। विवादित बाबरी मस्जिद की जगह अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर निर्माण (Ram Mandir) के लिए बने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बुधवार

 

नई दिल्ली। विवादित बाबरी मस्जिद की जगह अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर निर्माण (Ram Mandir) के लिए बने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बुधवार को पहली बैठक हुई जिसमें मंदिर निर्माण के लिए सदस्यों की जिम्मेदारी तय कर दी गई। इसमें तय किया गया कि महंत नृत्य गोपाल दास (Nritya Gopal Das) राम मंदिर ट्रस्ट (Ram Mandir Trust) के अध्यक्ष होंगे। विश्व हिन्दू परिषद (VHP) के उपाध्यक्ष चंपत राय को महासचिव बनाया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व प्रिंसिपल सेक्रेटरी नृपेंद्र मिश्रा निर्माण समिति के अध्यक्ष बनाए गए हैं। गोविंद गिरी ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष होंगे।

रामलला के वकील रहे केशवन अय्यंगर परासरण के दिल्ली के ग्रेटर कैलाश स्थित घर पर हई बैठक में तमाम मुद्दों पर चर्चा हुई। शिलान्यास के मुहुर्त, रामलला की स्थापना से लेकर निर्माण ख़त्म होने की समय सीमा निर्धारित करने जैसे तमाम मुद्दों पर बैठक के दौरान बातचीत हुई।

रामजन्मभूमि ट्रस्ट के सदस्य विश्व प्रसन्न तीर्थ स्वामी ने बताया कि मंदिर निर्माण समिति की बैठक अगले महीने होगी, जिसमें मंदिर निर्माण की तारीख पर चर्चा होगी। 

इससे पहले ट्रस्ट में महंत नृत्यगोपाल दास का नाम नहीं होने पर अयोध्या के संतों ने नाराजगी जताई थी। संतों ने आंदोलन शुरू करने की चेतावनी भी दी थी। संतों के रुख को देखते हुए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने महंत नृत्यगोपाल दास से बातचीत करने का आश्वासन दिया था।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग