3000 टन का दावा झूठा, 160 किलो ही है सोनभद्र में सोना

सोनभद्र। उत्तर प्रदेश में सोना की खान से सभी गदगद थे। लगा कि अब तो उत्तर प्रदेश का भाग्य ही खुल गया। पर उस झूठ से भी जल्द ही पर्दा हट गया जिसमें दावा

 

सोनभद्र। उत्तर प्रदेश में सोना की खान से सभी गदगद थे। लगा कि अब तो उत्तर प्रदेश का भाग्य ही खुल गया। पर उस झूठ से भी जल्द ही पर्दा हट गया जिसमें दावा किया गया था कि सोनभद्र की जमीन में 3000 टन सोना है।

भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (जीएसआई) ने शनिवार को कहा कि उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में लगभग 3,000 टन सोने के भंडार की कोई खोज नहीं हुई है, जैसा कि एक जिला खनन अधिकारी ने दावा किया है।

जीएसआई के महानिदेशक (डीजी) एम श्रीधर ने शनिवार शाम को कोलकाता स्थित जीएसआइ मुख्यालय में बताया कि जीएसआई के किसी भी व्यक्ति द्वारा इस तरह के आंकड़े नहीं दिए गए थे। सोनभद्र जिले में जीएसआई ने इस तरह के सोने के भंडार का अनुमान नहीं लगाया है।

हम राज्य इकाइयों के साथ सर्वेक्षण करने के बाद अयस्क के किसी भी संसाधन के बारे में अपने निष्कर्षों को साझा करते हैं। हमने (जीएसआई, उत्तरी क्षेत्र) 1998-99 और 1999-2000 में उस क्षेत्र में काम किया था। उन्होंने कहा कि सूचना और आगे की कार्रवाई के लिए यूपी डीजीएम के साथ रिपोर्ट साझा की गई थी। सोनभद्र जिले में सोने के लिए जीएसआई के अन्वेषण कार्य व परिणाम संतोषजनक नहीं थे।

गौरतलब है कि सोनभद्र के जिला खनन अधिकारी केके राय ने शुक्रवार को कहा था कि जिले के सोन पहाड़ी और हरदी इलाके में सोने का भंडार पाया गया है। अधिकारी ने कहा कि सोन पहाड़ी में जमा भंडार लगभग 2,943.26 टन है, जबकि हरदी ब्लॉक 646.16 किलोग्राम है।

दावे को खारिज करते हुए श्रीधर ने कहा कि जिले में अन्वेषण के बाद अपनी रिपोर्ट में जीएसआई ने 52,806.25 टन अयस्क की संभावित श्रेणी संसाधन का अनुमान लगाया था। डीजी ने स्पष्ट किया कि खनिज क्षेत्र में औसतन 3.03 ग्राम प्रति टन सोने का ग्रेड होता है जो प्रकृति में संचरित होता है और कुल सोना जो 52,806.25 टन अयस्क के कुल संसाधन से निकाला जा सकता है, लगभग 160 किलोग्राम है।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग