शेयर बाजार औधे मुंह धड़ाम, निफ्टी 400 प्वाइंट तो बैंक निफ्टी 1030 प्वाइंट फिसला

आज शेयर बाजार के लिए बहुत ही बुरा दिन रहा। शायद ही शेयर बाजार में 500 प्वाइंट निफ्टी फिसला हो। हालांकि कई वर्षों के इतिहास में 500 प्वाइंट निफ्टी का फिसलना और

मुंबई। आज शेयर बाजार के लिए बहुत ही बुरा दिन रहा। शायद ही शेयर बाजार में 500 प्वाइंट निफ्टी फिसला हो। हालांकि कई वर्षों के इतिहास में 500 प्वाइंट निफ्टी का फिसलना और सभी शेयर लाल निशान में खुलना कोई आम बात नहीं। खास तो यह रहा कि तीन हजार शेयरों के बीच शायद ही कोई हरे निशान की तरफ खुला हो या फिर बंद हुआ हो पर लाल निशान ने आज शेयर बाजार में लाखों डुबा दिए। इसके पीछे करोना का कहर तो है ही भारतीय अर्थव्यवस्था की खस्ता हालत और  


 

चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में जीडीपी विकास दर 4% के बीच रही यह भी बड़ा कारण रहा। हालांकि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए वित्त मंत्रालय ने कई उपाय किए हैं, लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी नहीं आ रही है।

विकास दर एक दशक के न्यूनतम स्तर पर है। मांग में छाई सुस्ती कायम है। रीटेल महंगाई दर सात साल के चरम पर है। बेरोजगारी दर चार दशक के उच्चतम स्तर पर है। शेयर मार्केट में गिरावट जारी है। निवेशक निवेश करने से कतरा रह हैं। चारों तरफ से अर्थव्यवस्था के लिए नकारात्मक खबरें ही हैं।

मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट गिरकर 4.5 प्रतिशत पर आ गई थी। पिछली 26 तिमाहियों यानी साढ़े 6 साल में यह भारतीय अर्थव्यवस्था की सबसे धीमी विकास दर है। एक साल पहले यह 7 प्रतिशत थी, जबकि पिछली तिमाही में यह 5 प्रतिशत थी।

तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) को लेकर जापान की वित्तीय सेवा प्रदाता कंपनी नोमुरा का मानना था कि विकास की रफ्तार और धीमी होगी और यह घटकर 4.3 फीसदी पर पहुंच सकती है। नोमुरा का मानना है कि वर्ष 2020 की पहली तिमाही (वित्त वर्ष 2019-20 की आखिरी तिमाही) में जीडीपी ग्रोथ रेट में मामूली सुधार होगा और यह 4.7 प्रतिशत रह सकता है।

सुस्ती का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक साल में रिजर्व बैंक ने रीपो रेट में 1.35 फीसदी की कटौती की। इसके बावजूद लोन की डिमांड में उतनी तेजी नहीं आई, लेकिन महंगाई दर 4 फीसदी के लक्ष्य से करीब दोगुनी पहुंच चुकी है। इंडस्ट्रिलय प्रॉडक्शन में भी गिरावट है। इस स्थिति को लेकर सरकार का कहना है कि जीएसटी जैसे फैसलों का असर आने वाले दिनों में दिखाई देगा।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग