श्रीराम मिलेनियम के बच्चों में नहीं मिला कोरोना वायरस

राजेश राय, नोएडा। नोएडा के लिए आज राहत की खबर है। कल जिस श्रीराम मिलेनियम को कोरोना वायरस की आशंका में बंद कर दिया था उसके सभी बच्चों में कोरोना वायरस नहीं पाया गया है।

 

राजेश राय, नोएडा। नोएडा के लिए आज राहत की खबर है। कल जिस श्रीराम मिलेनियम को कोरोना वायरस की आशंका में बंद कर दिया था उसके सभी बच्चों में कोरोना वायरस नहीं पाया गया है। हालांकि स्कूल अब भी बंद है पर आने वाले दिनों में वहां कुछ एहतियात के तहत उसे खोल दिया जाएगा।

वैसे सभी छह लोगों को अगले 14 दिन के लिए अपने-अपने घर में अलग थलग रहने को कहा गया है। अधिकारियों ने बताया कि अगर उनमें कोविड-19 के लक्षण नजर आते हैं तो उनके नमूनों की फिर से जांच की जाएगी। नोएडा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक मंगलवार को जिन लोगों के नमूने लिए थे उनमें एक दंपति और 12 वर्ष का उनका बेटा, एक महिला और उसके दो बच्चे शामिल थे।

 

 

 

 

वहीं गौतमबुद्ध नगर के डीएम बीएन सिंह ने कहा कि स्थिति पर नजर रखा जा रहा है पर जिन बच्चों को कोरोना वायरस से प्रभावित माना जा रहा था उन सभी बच्चों का रिजल्ट निगेटिव आया है। उन्होंने कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है। कहीं से भी कुछ बुरी खबर आ रही हो तो सीधे प्रशासन से संपर्क करें। मेरी तरह से किसी भी स्कूल को बंद करने के लिए नहीं कहा गया है।

 

डीएम के अनुसार, इटली से लौटे एक भारतीय की पहचान हुई है। उसे दिल्ली में अलग-थलग (Quarantine) रखा गया है। पता चला है कि पीड़ि‍त शख्‍स का बच्चा नोएडा के स्कूल में पढ़ता था। बर्थडे पार्टी के दौरान उसकी कुछ अन्‍य बच्चों से भी मुलाकात हुई थी। डीएम ने बताया कि विशेषज्ञों की टीम मामले पर नजर रखे हुए है। आपात परिस्थितियों को देखते हुए एहतियातन 10 बेड की व्यवस्था भी कर दी गई है। उन्‍होंने कहा कि इससे घबराने की जरूरत नहीं है.

 

 

आपको बता दें कि नोएडा में कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर कल यानी मंगलवार को हड़कंप मचा हुआ था। कोरोना वायरस को लेकर यहां अब तक दो स्कूल बंद कर दिए गए थे। पहले एक स्कूल बंद करने की खबर आई थी। बाद में पता चला है कि सेक्टर-168 स्थित एक स्कूल को कोरोना वायरस के चलते बंद कर दिया गया है।
 

 

 

 

इटली के सभी पर्यटक कोरोना वायरस से पीड़ित

 

इटली से भारत आए 15 पर्यटक कोरोना पॉजिटिव हैं। इनमें एक भारतीय भी शामिल है। कुल 21 पर्यटक भारत आए थे जिनमें से 15 को कोरोना से संक्रमित पाया गया है। 

इससे पहले डीजीसीए ने सोमवार को कहा कि इटली और ईरान से आने वाले सभी यात्रियों की थर्मल जांच की जाएगी। दो यात्रियों के इस वायरस से पीड़ित होने की घोषणा के कुछ घंटों बाद यह बयान जारी किया गया है। भारतीय हवाई अड्डों पर पहले ही 10 देशों चीन, हांगकांग, जापान, दक्षिण कोरिया, थाईलैंड, सिंगापुर, नेपाल, इंडोनेशिया, वियतनाम और मलेशिया से आने वाले यात्रियों की जांच की जा रही थी। वहीं, कोरोना वायरस की दुनियाभर में दहशत के बीच भारत सरकार ने भी कमर कस ली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस को लेकर तैयारियों के बारे में समीक्षा की। साथ ही दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल से मुलाकात के दौरान भी इसको लेकर चर्चा हुई।

 

 

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग