ईडी के शिकंजे में जेट के नरेश गोयल, मनी लांड्रिंग में फंसे

मुंबई। जेट एयरवेज (JET AIRWAYS) पर एक और आफत आई है। जेट के फाउंडर मेंबर नरेश गोयल को प्रवर्तन निदेशालय(Enforcement doctorate) (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया है।

 

मुंबई। जेट एयरवेज (JET AIRWAYS) पर एक और आफत आई है। जेट के फाउंडर मेंबर नरेश गोयल को प्रवर्तन निदेशालय(Enforcement doctorate) (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया है। उनपर मनी लांड्रिंग का आरोप है।

सूत्रों ने बताया कि नरेश गोयल (naresh goel) को बलार्ड एस्टेट ऑफिस में घंटों पूछताछ के बाद ईडी की टीम उनकी गिरफ्तारी की। उन्हें उनके घर भी ले जाया गया और उनके घर की भी तलाशी ली गई। बुधवार रात को गोयल को आधिकारिक रूप में गिरफ्तार किया गया। ईडी गोयल के खिलाफ फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट ऐक्ट (फेमा) के तहत जांच कर रही है और उनके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग केस फाइल करने पर विचार कर रही थी। ईडी जेट के 12 सालों के वित्तीय काम की जांच कर रही है। उन्होंने फेमा केस में गोयल से दर्जनों बार पूछताछ की है।

ईडी ने उनकी पत्नी और बेटे से भी दो-तीन बार पूछताछ की है। 19 निजी फर्म से जुड़े संदिग्ध लेनदेन के मामले को ईडी देख रही है। इनमें से 14 फर्म भारत और 5 विदेश में हैं। सभी गोयल से संबंधित हैं।

सूत्रों के मुताबिक, गोयल टैक्स हैवन कहे जाने वाले देशों में कुछ कंपनियों के अप्रत्यक्ष मालिक हैं। जेट को कर्ज देने वाली एसबीआई एयरलाइन्स के खिलाफ नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT)में दिवालियापन का मुकदमा शुरू करने वाली है। इनकी गिरफ्तारी से जेट से जुडे शेयर बाजार में आज उठापटक की संभावना है।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग