नोएडा में मिला कोरोना का मरीज, यूपी में भी शिक्षण संस्थान 22 तक बंद

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के औद्योगिक शहर नोएडा में एक कोरोना वायरस का मरीज मिला है। यह हाल ही में इटली और स्वीटजरलैंड की यात्रा से लौटा था। हालांकि एयरपोर्ट पर स्कैनिंग में उसमें कोरोना वायरस का पता नहीं चल पाया

 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के औद्योगिक शहर नोएडा में एक कोरोना वायरस का मरीज मिला है। यह हाल ही में इटली और स्वीटजरलैंड की यात्रा से लौटा था। हालांकि एयरपोर्ट पर स्कैनिंग में उसमें कोरोना वायरस का पता नहीं चल पाया था। अब उसके कंपनी के लगभग 707 कर्मचारियों को छुट्टी पर भेज दिया गया है।  सीएमओ डॉ. अनुराग भार्गव ने बताया कि पीड़ित व्यक्ति दिल्ली का रहने वाला है। उसने इटली, फ्रांस, चीन सहित कई देशों में व्यापार के सिलसिले में यात्राएं की। वह कंपनी में जॉब के सिलसिले में आता रहा। परेशानी शुरू होने पर उसका सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा गया। इसमें कोविड-19 के लक्षण पॉजिटिव पाए गए। उसका इलाज चल रहा है। सीएमओ ने बताया कि कंपनी के सभी 707 कर्मचारियों को निगरानी पर रखा गया है।

वहीं इस मरीज के मिलने के बाद थोड़ी ही देर में योगी सरकार ने राज्य के सभी स्कूल कालेज को 22 मार्च तक के लिए बंद कर दिया। हालांकि इस दौरान परीक्षा प्रक्रिया जारी रहेगी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 22 के बाद इसकी समीक्षा की जाएगी कि आगे भी शिक्षण संस्थानों को बंद रखना है या नहीं।

यूपी के अलावे दिल्ली, बिहार, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, उत्तराखंड में भी शिक्षण संस्थानों को 31 मार्च के लिए बंद कर दिया गया है। दिल्ली सरकार ने तो मीडिया पर भी प्रतिंबंध लगा दिया है। अब मीडिया में वहीं खबरें कोरोना की छापी जाएगीं जो सरकार से स्वीकृत होंगी। 

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग