सुदर्शन टीवी के संपादक सुरेश के खिलाफ झारखंड में जांच शुरू

रांची। सुदर्शन न्यूज के लिए एक बुरी खबर है। खबर है कि झारखंड पुलिस उस वीडियो की जांच कर रही है, जिसमें चैनल के संपादक सुरेश चव्हाण लोगों से दंगाइयों का आर्थिक बहिष्कार करने का आह्वान कर रहे हैं।

 

रांची। सुदर्शन न्यूज के लिए एक बुरी खबर है। खबर है कि झारखंड पुलिस उस वीडियो की जांच कर रही है, जिसमें चैनल के संपादक सुरेश चव्हाण लोगों से दंगाइयों का आर्थिक बहिष्कार करने का आह्वान कर रहे हैं। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्विटर पर कहा कि सरकार ने इसका संज्ञान लिया है और जोर देते हुए कहा कि सांप्रदायिक सौहार्द में खलल डालने की किसी भी कोशिश को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) के एक अधिकारी ने कहा कि हेमंत सोरेन ने वीडियो के ट्विटर पर वायरल होने के बाद पुलिस को जांच शुरू करने को कहा। सुदर्शन न्यूज चैनल के संपादक सुरेश चव्हाणके ने एक कार्यक्रम का वीडियो ट्विटर पर साझा किया, जहां वह उपस्थित भगवाधारी व्यक्तियों से यह कहते सुने जा रहे है कि वे दंगाइयों को नौकरियां नहीं देकर और उनसे चीजें नहीं खरीद कर उनका बहिष्कार करने की शपथ लें।

 

 

चव्हाणके ने अपने ट्वीट में यह भी कहा कि मेयर, पूर्व मंत्रियों, कारोबारियों और उद्योगपतियों ने शहर के एक होटल में यह संकल्प लिया है। उन्होंने इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले लोगों से इसी तरह की शपथ लेने और वीडियो साझा करने को कहा। वीडियो वायरल होने के कुछ ही देर बाद ट्विटर पर हैशटैग के साथ ‘सुरेश चव्हाणके को गिरफ्तार करो’ ट्रेंड करने लगा। इसके बाद हेमंत सोरेन ने कहा कि जांच के बाद उपयुक्त कार्रवाई की जाएगी।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग