COVID-19 से निपटने की मोदी की पहल का सार्क देशों ने किया स्वागत

नई दिल्ली। COVID-19 से निपटने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के प्रस्ताव को दक्षिण एशियाई एसोसिएशन फॉर रिजनल कोऑपरेशन (SAARC) देशों ने स्वागत किया है। संभव है कि रविवार को इस मामले में एक नई कड़ी जुड़े। सूत्रों

 

नई दिल्ली। COVID-19 से निपटने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के प्रस्ताव को दक्षिण एशियाई एसोसिएशन फॉर रिजनल कोऑपरेशन (SAARC) देशों ने स्वागत किया है। संभव है कि रविवार को इस मामले में एक नई कड़ी जुड़े। सूत्रों ने बताया कि मोदी के साथ सार्क देशों के प्रधानमंत्री विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एक दूसरे से रूबरू होंगे।

आपको बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने घातक COVID-19 से निपटने की पहल करते हुए SAARC देशों के बीच यह शुक्रवार को प्रस्ताव रखा था जिसपर सकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए इसका उन्होंने इसका स्वागत किया था। सार्क में 8 राष्ट्र भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, भूटान, नेपाल और अफगानिस्तान शामिल हैं। इस सभी देशों ने अपनी सहमति जतायी है।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच पीएम मोदी ने शुक्रवार को एक के बाद एक ट्वीट कर इसके खिलाफ दक्षिण एशियाई देशों के बीच एकजुटता की अपील की। उन्होंने ट्वीट किया, 'हमारी धरती कोविड-19 नोवल कोरोना वायरस से जंग लड़ रही है। विभिन्न स्तरों पर, सरकारें और लोग इससे निपटने की भरसक कोशिश कर रहे हैं। दक्षिण एशिया जहां विश्व की बड़ी आबादी रहती है, अपने लोगों के स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने में कोई कसर नहीं छोड़ेगा।'
 

उन्होंने अन्य ट्वीट किया, 'मैं प्रस्ताव देना चाहता हूं कि दक्षेस देशों का नेतृत्व कोरोना वायरस से लड़ने के लिए मजबूत रणनीति बनाए। हम विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हमारे नागरिकों को स्वस्थ रखने के तरीकों पर चर्चा कर सकते हैं। एक साथ मिलकर हम दुनिया के लिए उदाहरण पेश कर सकते हैं और धरती को स्वस्थ बनाने में योगदान दे सकते हैं।'

भारत के पड़ोसी और मित्र देश ने इस पर तुरंत प्रतिक्रिया दी और भूटान के पीएम व पेशे से डॉक्टर लोटे शेरिंग ने जवाब दिया, 'इसे लीडरशिप कहते हैं।

 


श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे भी इस पहल से काफी उत्साहित हैं। उन्होंने रिट्वीट कर जवाब दिया और कहा कि हम चर्चा का हिस्सा बनने के लिए तैयार हैं। उन्होंने ट्वीट किया, 'नरेंद्र मोदी आपकी महान पहल के लिए आभार- लंका चर्चा में हिस्सा लेने, अपने ज्ञान साझा करने और सार्क देशों से सीखने के लिए तैयार है। इस परीक्षा की घड़ी में हम सभी एकसाथ हों और अपने नागरिकों को सुरक्षित बनाएंगे।' चर्चा में शामिल होने के लिए नेपाल के पीएम के पी शर्मा ओली ने भी तुरंत ही अपनी सहमति जता दी।

वहीं, मालदीव के पीएम अब्दुल्ला सोलिह ने पीएम मोदी का आभार जताते हुए कहा, 'कोविड-19 को सामूहिक प्रयास से हराने की जरूरत है। मालदीव इसका स्वागत करता है।' बांग्लादेश के विदेश मंत्री शहरयार आलम ने कहा कि हमारी पीएम शेख हसीना पीएम मोदी के प्रस्ताव का स्वागत करती हैं। उन्होंने कहा कि पीएम हसीना, पीएम मोदी, सोलिह, ओली, शेरिंग और राजपक्षे के साथ रचनात्मक चर्चा के लिए तैयार हैं।
अफगानिस्तान के दूतावास ने बयान जारी किया, 'कोविड-19 से निपटने के लिए सार्क देशों द्वारा ठोस रणनीति बनाने को लेकर पीएम मोदी की तरफ से की गई पहल का हम स्वागत करते हैं।'

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग