टिकटाक समेत 59 ऐप पर सरकार ने लगाया प्रतिबंध

राजेश राय, नई दिल्ली। चीन के खिलाफ मोदी सरकार ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। सरकार ने 59 चीनी ऐप को प्रतिबंधित कर दिया है जिसमें लोकप्रिय ऐप टिक टाक, क्लब फैक्ट्री, यूसी ब्राउजर का भी नाम शामिल है। सूत्रों ने बताया कि सरकार ने डाटा चोरी का आरोप लगाकर इन ऐप को प्रतिबंधित किया है। हालांकि इसका सबसे बड़ा कारण चीन के साथ तनाव है।

राजेश राय, नई दिल्ली। चीन के खिलाफ मोदी सरकार ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। सरकार ने 59 चीनी ऐप को प्रतिबंधित कर दिया है जिसमें लोकप्रिय ऐप टिक टाक, क्लब फैक्ट्री, यूसी ब्राउजर का भी नाम शामिल है। सूत्रों ने बताया कि सरकार ने डाटा चोरी का आरोप लगाकर इन ऐप को प्रतिबंधित किया है। हालांकि इसका सबसे बड़ा कारण चीन के साथ तनाव है।

भारत में टिकटाक सबसे पापुलर ऐप है और यहां से करोड़ों रुपये झटक कर वह चीन लेकर जाता है। माना जा रहा है कि सरकार आने वाले दिनों में चीन के खिलाफ कुछ और कठोर कार्रवाई कर सकती है। एक सूत्र ने बताया कि भारत ने इन ऐप पर प्रतिबंध लगातर चीन को आर्थिक रूप से कमजोर करने की रणनीति पर काम कर रहा है। हालांकि अभी तक चीन की तरफ से इस पर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है पर आने वाले दिनों से चीन इन ऐप की बहाली के लिए जरूर गुजारिश करेगा। वैसे भारत और चीन के बीच तनाव को देखते हुए यह कहना संभव नहीं है कि यह सिफारिश कब होगी या चीन इसके लिए कब सिफारिश करेगा। इस बीच यह भी खबर आ रही है कि चीन के साथ मंगलवार को सैन्य स्तर पर तीसरे दौर की वार्ता होगी।

ऐप की लिस्ट.....

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग