कोरोना को मात देने लगी भारतीय अर्थव्यवस्था

कोरोना संकट काल के बीच इकोनॉमी के मोर्चे पर एक राहत की खबर है. दरअसल, जून महीने में जीएसटी के कलेक्शन में इजाफा हुआ है. आधिकारिक आंकड़े के मुताबिक सरकार ने जून में जीएसटी से 90,917 करोड़ रुपये एकत्र किए.

वहीं जीएसटी कलेक्शन, मई में 62,009 करोड़ रुपये और अप्रैल में 32,294 करोड़ रुपये था. आपको बता दें कि लॉकडाउन

कोरोना संकट काल के बीच इकोनॉमी के मोर्चे पर एक राहत की खबर है. दरअसल, जून महीने में जीएसटी के कलेक्शन में इजाफा हुआ है. आधिकारिक आंकड़े के मुताबिक सरकार ने जून में जीएसटी से 90,917 करोड़ रुपये एकत्र किए.

वहीं जीएसटी कलेक्शन, मई में 62,009 करोड़ रुपये और अप्रैल में 32,294 करोड़ रुपये था. आपको बता दें कि लॉकडाउन के दौरान यानी अप्रैल और मई में जीएसटी कलेक्शन के आंकड़े नहीं जारी किए गए थे. यह पहली बार है कि इन दोनों महीनों के भी आधिकारिक आंकड़े सामने आए हैं.

आधिकारिक बयान में कहा गया है, ‘‘जून, 2020 में एकत्र जीएसटी राजस्व 90,917 करोड़ रुपये रहा, जिसमें केंद्र का सीजीएसटी 18,980 करोड़ रुपये और स्टेट का एसजीएसटी 23,970 करोड़ रुपये है. इसके अलावा आईजीएसटी 40,302 करोड़ रुपये (माल के आयात पर जमा किए गए 15,709 करोड़ रुपये सहित) और सेस 7,665 करोड़ रुपये हुए हैं.’’

पिछले साल में जून के कलेक्शन से तुलना करें तो 9 फीसदी की कमी देखने को मिलती है. हालांकि, सरकार ने जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की समयसीमा में राहत दी है. जून 2020 के दौरान अप्रैल, मार्च और यहां तक कि फरवरी के रिटर्न भी दाखिल किए गए.

लॉकडाउन के दौरान यानी अप्रैल और मई में जीएसटी कलेक्शन में बड़ी गिरावट आई है. एक साल पहले से तुलना करें तो अप्रैल में कलेक्शन 72 फीसदी लुढ़क कर 32,294 करोड़ रहा तो वहीं मई में 38 फीसदी की गिरावट आई और यह 62,009 करोड़ था. वहीं तिमाही आधार पर देखें तो पिछले साल के मुकाबले इस बार 41 फीसदी कम जीएसटी कलेक्शन हुआ है.

जीएसटी कलेक्शन में इजाफा आर्थिक बोझ से जूझ रही केंद्र सरकार के लिए राहत की खबर है. दरअसल, चालू वित्त वर्ष के पहले दो महीनों के दौरान राजकोषीय घाटा बढ़कर 4.66 लाख करोड़ रुपये या बजट अनुमानों का 58.6 प्रतिशत हो गया. टैक्स कलेक्शन कम रहने के कारण राजकोषीय घाटे में बढ़ोतरी हुई है. पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि के दौरान राजकोषीय घाटा बजट अनुमानों का 52 प्रतिशत था.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग