आईआईएमसी के नए महानिदेशक बने प्रोफेसर संजय द्विवेदी, तीन साल का होगा कार्यकाल

प्रोफेसर संजय द्विवेदी को भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) का महानिदेशक नियुक्त किया गया है। कार्मिक मंत्रालय के आदेश के अनुसार प्रोफेसर संजय द्विवेदी को बुधवार को आईआईएमसी का महानिदेशक नियुक्त किया गया।

प्रोफेसर संजय द्विवेदी को भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) का महानिदेशक नियुक्त किया गया है। कार्मिक मंत्रालय के आदेश के अनुसार प्रोफेसर संजय द्विवेदी को बुधवार को आईआईएमसी का महानिदेशक नियुक्त किया गया।

संजय द्विवेदी वर्तमान में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति हैं। मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने तीन साल की अवधि के लिए सीधी भर्ती के आधार पर आईआईएमसी के महानिदेशक के रूप में उनकी नियुक्ति को मंजूरी दी है। 

प्रोफेसर संजय द्विवेदी के पास 14 साल से ज्यादा सक्रिय पत्रकारिता का अनुभव हैं। सक्रिय पत्रकारिता के बाद वो शिक्षा क्षेत्र से जुड़े। प्रोफेसर द्विवेदी दैनिक भास्कर, हरिभूमि, नवभारत, स्वदेश, इंफो इंडिया डॉटकाम और जी 24 जैसे मीडिया संगठनों में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां संभाल चुके हैं। वो एमसीयू में 10 साल मॉस-कम्युनिकेशन विभाग के अध्यक्ष रहे। संप्रति प्रोफेसर और विश्वविद्यालय के कुलपति और 'मीडिया विमर्श' पत्रिका के कार्यकारी संपादक भी रहे।
वो 25 से ज्यादा पुस्तकों का लेखन और संपादन कर चुके हैं। अब उन्हें आईआईएमसी का महानिदेशक नियुक्त किया गया है। बता दें कि वर्तमान में आईआईएमसी, भोपाल के कुलपति संजय द्विवेदी  से पहले विश्वविद्यालय के कुलपति जगदीश उपासने थे।

 

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग