दूरदर्शन के डिप्टी डायरेक्टर रहे सुनील कुमार झा पर गंभीर आरोप

दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस (आईईएस) के एक पूर्व अधिकारी को एक टीवी चैनल खरीदने का लालच देकर एक वैद्याचार्य के साथ पांच करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस (आईईएस) के एक पूर्व अधिकारी को एक टीवी चैनल खरीदने का लालच देकर एक वैद्याचार्य के साथ पांच करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

आरोपी सुनील कुमार झा ने पहले जोधपुर में दूरदर्शन में डिप्टी डायरेक्टर के रूप में काम किया था और दूरदर्शन के स्टोरों से सामानों की हेराफेरी के संबंध में दूरदर्शन द्वारा दायर आपराधिक मामले में दोषी ठहराया गया था।

पुलिस के अनुसार, शिकायतकर्ता पंडित लक्ष्मण दास भारद्वाज पेशे से वैद्याचार्य हैं। अपनी आयुर्वेद वस्तुओं के प्रचार और आध्यात्मिक उद्देश्यों के लिए भी वह आरोपी सुनील कुमार झा के संपर्क में आए, जिसने खुद को एक भक्ति टीवी चैनल के प्रमुख के रूप में पेश किया। शिकायतकर्ता ने उक्त चैनल के माध्यम से अपने कार्यक्रमों का प्रसारण शुरू कर दिया।

सुनील कुमार झा ने अपनी पत्नी बिंदू झा को भी टीवी चैनल चलाने के लिए तकनीकी जानाकरी रखने वाली एकस्पर्ट के रूप में पेश किया। झा ने वैद्याचार्य को भी अवगत कराया कि उसने पहले दूरदर्शन में काम किया था और वे एक अन्य कंपनी मेसर्स वायसराय इंजीनियर्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक भी हैं।

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि उसका विश्वास जीतने के बाद दंपति ने उसे अपना टीवी चैनल स्थापित करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि वे टीवी चैनल के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचे का निर्माण करेंगे।

आर्थिक अपराध शाखा के जॉइंट सीपी ओ. पी. मिश्रा ने कहा, इस पर, शिकायतकर्ता ने टीवी चैनल को खरीदने के लिए लगभग पांच करोड़ रुपये की राशि दी थी। बाद में, शिकायतकर्ता को पता चला कि आरोपी सुनील कुमार झा ने अपनी पत्नी बिंदू झा और विनीत वशिष्ठ के नाम पर मेसर्स एक्सप्रेस ब्रॉडकास्टिंग प्राइवेट लिमिटेड की हिस्सेदारी के माध्यम से टीवी चैनल संस्कृति की खरीदी की और शिकायतकर्ता वैद्याचार्य के साथ ठगी की।

आरोपी सुनील कुमार झा को तीन जुलाई, 2020 को गिरफ्तार कर लिया गया।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग