नवदुनिया के ब्यूरो चीफ धनंजय प्रताप सिंह पर उनकी ही कॉलोनी में जानलेवा हमला

भोपाल। शनिवार देर रात भोपाल बाईपास की एक रिहायशी कॉलोनी में नव दुनिया के ब्यूरो चीफ धनंजय प्रताप सिंह पर उनकी कॉलोनी में ही कुछ शराबियों ने लोहे की रॉड से हमला किया.

भोपाल। शनिवार देर रात भोपाल बाईपास की एक रिहायशी कॉलोनी में नव दुनिया के ब्यूरो चीफ  धनंजय प्रताप सिंह पर उनकी कॉलोनी में ही कुछ शराबियों ने लोहे की रॉड से हमला किया. दरअसल, शनिवार रात पत्रकार धनंजय प्रताप सिंह ने कॉलोनी में अपने घर के पास बैठकर शराब पीने से तीन युवकों को रोका था. इस पर शराबियों ने उन पर रॉड से हमला कर दिया. इसमें वो गंभीर रूप से घायल हो गए हैं, उनको करीब 7 टांके लगे हैं. जब शोरगुल सुनकर पड़ोसी वहां पहुंचे, तो हमलावर फरार हो गए.

पत्रकार धनंजय प्रताप सिंह पर शनिवार को तब हमला हुआ, जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्य प्रदेश में कानून व्यवस्था को लेकर पुलिस के आला अधिकारियों के साथ अहम बैठक की थी. वहीं, इस हमले के बाद गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट कर जानकारी दी कि हमले का एक आरोपी गिरफ्तार कर लिया गया है. गृहमंत्री ने ट्वीट किया, 'वरिष्ठ पत्रकार धनंजय प्रताप सिंह पर हमले के आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस को अपराधियों के साथ सख्ती से निपटने के निर्देश दिए गए हैं.'

वहीं, मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में पत्रकार पर हुए हमले ने तुरंत सियासी रंग ले लिया. पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर पत्रकार पर हमले को गम्भीर मामला बताया और शिवराज सरकार को घेरा. उन्होंने ट्वीट किया, 'वरिष्ठ पत्रकार धनंजय प्रताप सिंह पर हुई हमले की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है. शिवराज सरकार में आखिर कौन सुरक्षित है? कल ही राजधानी में शराबखोरों द्वारा दो छात्रों की निर्मम हत्या और आज एक पत्रकार पर हमला? कल ही मुख्यमंत्री ने कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की और अधिकारियों को कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए और आज यह घटना ख़ुद सवाल खड़े कर रही है? इस घटना के आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई हो. साथ ही पत्रकार धनंजय प्रताप सिंह को पूर्ण सुरक्षा प्रदान की जाए.'

उधर, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घायल पत्रकार धनंजय प्रताप सिंह से फोन पर बात की. उन्होंने ट्वीट किया, 'वरिष्ठ पत्रकार धनंजय प्रताप सिंह के साथ कल रात हुई दुखद घटना की जानकारी प्राप्त हुई. अभी दिल्ली प्रवास पर हूं, धनंजय प्रताप सिंह से फोन पर चर्चा कर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली है. एक सभ्य समाज में ऐसी घटनाओं को जगह नहीं दी जा सकती है, जिन्होंने पत्रकार धनंजय प्रताप सिंह के साथ ये हरकत की है, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस और प्रशासन को मैंने कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दे दिए हैं. मैं धनंजय प्रताप सिंह के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं.'

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग