यूपी पुलिस को खूब छका रहा विकास, तीन दर्जन टीमें लगीं पर अभी तक खाली हाथ

कानपुर। गैंगस्टर विकास दूबे के पीछे यूपी पुलिस की तीन दर्जन टीमें लग गई हैं। कानपुर के बिकरू गांव में 8 पुलिसवालों की हत्या समेत कई संगीन अपराधों के गुनहगार को पकड़ने की कोशिश में यूपी पुलिस स्पेशल टास्क फोर्स (STF) लगातार जुटी हैं

कानपुर। गैंगस्टर विकास दूबे के पीछे यूपी पुलिस की तीन दर्जन टीमें लग गई हैं। कानपुर के बिकरू गांव में 8 पुलिसवालों की हत्या समेत कई संगीन अपराधों के गुनहगार को पकड़ने की कोशिश में यूपी पुलिस स्पेशल टास्क फोर्स (STF) लगातार जुटी हैं। 2-3 जुलाई की रात छापा मारने गई पुलिस के 8 जवानों की जघन्यता से हत्या करने वाला सरगना विकास दुबे अभी तक फरार है। यूपी पुलिस डीजीपी का कहना है कि जब तक पुलिस इस कुख्‍यात अपराधी को पकड़ नहीं लेती तब चैन से नहीं बैठेगी।

पिछले गुरुवार की रात जिस तरह बर्बरता से पुलिसकर्मियों की हत्या की गई उससे राज्य की पुलिस और अपराधियों की सांठ-गांठ के खेल की भी पोल खोल दी है। बताया जा रहा है पुलिस की छापेमारी से कुछ घंटे पहले ही विकास दुबे को थाने से फोन कर अलर्ट कर दिया गया था। इतना ही नहीं आरोपी पुलिसवालों ने अपने ही साथियों को अपराधी के बिछाए जाल में फंसा दिया था। अपने ही कर्मचारियों के मौका परस्ती और विश्वासघात से हैरान यूपी पुलिस अब वारदात को अंजाम देकर साथियों साथ फरार हो चुके विकास दुबे को तलाशती फिर रही है।

उत्तर प्रदेश पुलिस के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने समाचार एजेंसी एएनआई को आज बताया कि दुर्दांत अपराधी विकास दुबे और उसके साथियों को पकड़ने के लिए  पुलिस की 40 टीमें और एक एसटीएफ टीम को लगाया गया है। उन्होंने कहा कि विकास दुबे और उसके साथियों व परिवार के सदस्यों के बारे में सूचना जुटा रहे हैं। जब तक विकास दुबे गिरफ्तार नहीं किया जाता जब तक हम शांत से नहीं बैठेंगे।

विश्वासघात करने के संदेह और ड्यूटी में लापरवाही बरतने के चलते मामले में अब दो सब-इंस्पेक्टर और एक कांस्टेबल को बर्खास्त किया जा चुका है। इसके अलावा विकास दुबे से तार जुड़े होने के कारण एक और सब इंस्पेक्टर को बर्खास्त किया जा चुका है। पुलिस ने बताया था कि विकास दुबे के महान को जब जेसीबी से ढहाया गया तो उसमें काफी बडी मात्रा में विस्फोटक, हथियार बरामद किए गए हैं। विकास दुबे के लिंक अपराध की दुनिया में कितने गहरे हैं इसकी जांच भी बाद में की जाएगी।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग