रघुवर दास ने अखबार को भेजा कानूनी नोटिस

ranchi. पूर्व सीएम रघुवर दास ने झूठी व भ्रामक खबर फैलाकर उन्हें बदनाम करने को लेकर झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन को 50 करोड़ रुपए की मानहानि का कानूनी नोटिस भेजा है। पूर्व सीएम ने रांची से प्रकाशित होने वाले एक अखबार को भी नोटिस दिया है। यह कानूनी नोटिस रघुवर दास ने अधिवक्ता विनोद कुमार साहू के माध्यम से भेजा है। 

ranchi. पूर्व सीएम रघुवर दास ने झूठी व भ्रामक खबर फैलाकर उन्हें बदनाम करने को लेकर झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन को 50 करोड़ रुपए की मानहानि का कानूनी नोटिस भेजा है। पूर्व सीएम ने रांची से प्रकाशित होने वाले एक अखबार को भी नोटिस दिया है। यह कानूनी नोटिस रघुवर दास ने अधिवक्ता विनोद कुमार साहू के माध्यम से भेजा है। 

अधिवक्ता ने नोटिस में कहा है कि उनके मुवक्किल रघुवर दास पर लगाए गए आरोप में अखबार व वर्तमान सरकार की मिलीभगत है। इससे उनकी छवि धूमिल कर बदनाम करने के मकसद से किया गया है। इस कारण लीगल नोटिस सीएम हेमंत सोरेन, अखबार के संपादक समेत चार लोगों पर 50 करोड़ की मानहानि का दावा किया है।

रघुवर दास के अधिवक्ता ने लीगल नोटिस में 15 दिनों के अंदर सार्वजनिक रूप से हेमंत सोरेन समेत सभी आरोपियों से माफी मांगने और मानहानि की राशि का भुगतान करने का निर्देश दिया है। वर्ना माफी नहीं मांगने पर सीएम समेत सभी लोगों के खिलाफ कोर्ट में दीवानी व आपराधिक मुकदमा दायर करेंगे। अधिवक्ता ने बताया कि नोटिस सभी को भेजा जा चुका है। 


27 जून 2020 को एक अखबार और यूट्यूब चैनल पर खबर में पूर्व सीएम रघुवर दास पर दक्षिण अफ्रीका में बन रही है रघुवर के सपनों की वंडर कार शीर्षक से खबर प्रचारित किया था। इसमें कहा गया कि रघुवर दास ने एक वंडर कार का कंसाइनमेंट दिया था। मुख्यमंत्री रहते हुए रघुवर दास ने बेंटले कार का ऑर्डर 2018 में इंग्लैंड की एक कंपनी को दिया था, जिसके एवज में उन्हें 40 लाख रुपए एडवांस भुगतान किया था। जब कंपनी ने अक्षमता जाहिर की तो कार का ऑर्डर दक्षिण अफ्रीका स्थित कंपनी को दे दिया गया। साथ ही यह समाचार प्रकाशित हुई कि नई सरकार के गठन के पश्चात मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन गाड़ी का मूल्य देखते हुए ऑर्डर को रद्द करने पर विचार कर रहे हैं, क्योंकि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इसे फिजूलखर्ची मानते हैं। वहीं यह बात भी लिखी गई थी कि बेंटले कंपनी ने ऑर्डर के बारे में झारखंड सरकार को ईमेल भेजा है। इसके बाद जानकारी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को हुई।

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग