सचिन पायलट छक्का जड़ने के प्रयास में, गहलौत को डालेंगे गुगली

नई दिल्ली - राजस्थान की गहलोत सरकार पर अब संकट के बादल छाते हुए नज़र आ रहे हैं। खबर मिली है कि उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट सहित 18-20 कांग्रेस और निर्दलीय विधायकों के दिल्ली पहुंच गए हैं। मिली जानकारी के

नई दिल्ली - राजस्थान की गहलोत सरकार पर अब संकट के बादल छाते हुए नज़र आ रहे हैं। खबर मिली है कि उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट सहित 18-20 कांग्रेस और निर्दलीय विधायकों के दिल्ली पहुंच गए हैं। मिली जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस के 16 और तीन निर्दलीय विधायकों को दिल्ली के आईटीसी होटल में ठहराय गया हैं। इधर, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी इस सूचना के बाद एक्टिव हो गए हैं।उन्होंने शनिवार देर रात सभी मंत्रियों को फोन किया हैं। 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना है कि दिल्ली में बैठे बीजेपी के केंद्रीय नेता कोरोना संकटकाल में भी साजिश रच रहे हैं।  बरहाल अब तक खबर यही है की सचिन पायलट अपने विधायकों के साथ दिल्ली आए हैं। जिसके बाद अब राजस्थान में भी कुछ वैसी ही स्थिति बनती दिख रही है, जैसे मध्यप्रदेश में बनी थी। बता दे कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक तमाम विधायक पहले देश के अलग अलग शहरों के एक रिसोर्ट में ठहरे थे, और फिर बाद में पूरी सियासत ही बदल गई। 

मुख्यमंत्री ने विधायकों के साथ रात 9 बजे बैठक बुलाई

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने आवास पर कांग्रेस के विधायकों और मंत्रियों से मिल रहे हैं. सुबह 10:00 बजे से कांग्रेस के विधायकों और मंत्रियों से मुख्यमंत्री के मिलने का सिलसिला जारी है. कांग्रेस सरकार के सभी मंत्रियों और विधायकों को कहा गया है कि वह अपने क्षेत्र को छोड़कर जयपुर पहुंचे. जिसे भी संभव हो पा रहा है वह मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिलने के लिए मुख्यमंत्री निवास पहुंचे.

मुख्यमंत्री ने सभी कांग्रेस विधायकों को संदेश भेजा है कि वे आज शाम तक जयपुर पहुंच जाएं. मुख्यमंत्री ने विधायकों के साथ रात 9 बजे बैठक बुलाई है.

राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास के मुताबिक कैबिनेट मीटिंग में मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि किसी विधायक या मंत्री का फोन बंद आए या फिर वह नहीं मिल रहा है तो घबराएं नहीं, उसे जाकर आप संपर्क करें. सरकार को बचाने की जिम्मेदारी सब पर है.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग