तिरंगा को लेकर महबूबा मुफ्ती के विवादित बोल

श्रीनगर, जनसत्ता एक्सप्रेस. करीब 14 महीने की हिरासत के बाद छूटीं जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti, PDP) ने केंद्र सरकार पर कई आरोप लगाए

श्रीनगर, जनसत्ता एक्सप्रेस. करीब 14 महीने की हिरासत के बाद छूटीं जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti, PDP) ने केंद्र सरकार पर कई आरोप लगाए हैं. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होने अपने हाथ में जम्मू-कश्मीर का झंडा दिखाते हुए कहा- 'मेरा झंडा ये है. जब ये झंडा वापस आएगा तब हम तिरंगा भी फहराएंगे. जब हम तक हमें अपना झंडा वापस नहीं मिलता तब तक हम कोई झंडा नहीं फहराएंगे. हमारा झंडा ही तिरंगे के साथ हमारे संबंध को स्थापित करता है.'

प्रेस से बातचीत में महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि हम आर्थिक तौर पर बांग्लादेश से भी पिछड़ चुके हैं. चाहे वह रोजगार का मुद्दा हो या कुछ और, हर फ्रंट पर यह सरकार नाकामयाब है. उन्होंने कहा- 'इस सरकार के पास कोई ऐसा काम नहीं है जिसे दिखाकर वो वोट मांग सके. ये लोग कहते हैं कि अब जम्मू-कश्मीर में जमीन खरीदी जा सकेगी. फिर कहते हैं कि फ्री वैक्सीन बांटेंगे. आज पीएम मोदी को वोट के लिए आर्टिकल 370 पर बात करने की जरूरत पड़ती है.'

 



चीन को लेकर महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि यह सच है कि चीन ने हमारी 1000 स्क्वायर किलोमीटर जमीन पर कब्जा कर लिया. मुझे लगता है कि हम किसी तरह 40 किमी जमीन वापस पाने में कामयाब रहे. चीन आर्टिकल 370 और जम्मू-कश्मीर के बारे में भी बात करता है. वो पूछता है कि आखिर कश्मीर को संघशासित प्रदेश क्यों बनाया गया. आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर पर अंतरराष्ट्रीय तौर पर जितनी चर्चा हुई उतनी कभी नहीं हुई.

जनसत्ता एक्सप्रेस एक स्वतंत्र मंच है। जहां आपको अपनी बात रखने की, अपने विचार रखने की, अपने जज्बात रखने की खुली छूट है। पर एक बात यहां साफ कर दें कि पत्रकारिता के भी कुछ मूलभूल सिद्धांत हैं जिससे परे हम लोग भी नहीं। पर आप जनसत्ता एक्सप्रेस के साथ किसी भी रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। हम या आपको उतना ही आदर देंगे, सम्मान देंगे जितना अपने सहकर्मी को। इसलिए आप अपने क्षेत्र की खबरें, वीडियो हमें शेयर करें। हम उन्हें जनसत्ता एक्सप्रेस पर प्रकाशित करेंगे। इसके लिए आप jansattaexp@gmail.com का उपयोग कर सकते हैं। या फिर हमें आप whatsup भी 7678313774 पर कर सकते हैं। फोन तो आप कर ही सकते हैं। इसलिए एक नेक काम के लिए, पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए हमारे साथ, हमारी टीम का हिस्सा बनिए और स्वतंत्र पत्रकार, फोटोग्राफर, स्तंभकार के रूप में अपने अंदर के पत्रकार को जिंदा रखिए। हमारी टीम तो आपके साथ है ही।

राजेश राय, संपादक, जनसत्ता एक्सप्रेस

ट्रेंडिंग